वो उदयपुर में बीते कॉलेज के दिन बहुत याद आते हैं

वो उदयपुर में बीते कॉलेज के दिन बहुत याद आते हैं

यारों के साथ वो फतहसागर की पाल
हाथों में लहराते वो नीले पीले रूमाल
इधर उधर घूमते फिरते करते धमाल
सुनहरे दिनों का अभी तक है मलाल
वो उदयपुर में बीते कॉलेज के दिन बहुत याद आते हैं।

पाल पे बैठे-बैठे हाथों से चाय का इशारा
देर से चाय मिलना बिलकुल न था गवारा
किसी के हाथों में होता था भुना हुआ भुट्टा
छुपा के कोई मारता था सिगरेट का सुट्टा
वो उदयपुर में बीते कॉलेज के दिन बहुत याद आते हैं।

सड़कों पर मदमस्त हाथी सा चलना
घूमते फिरते ही शाम का ढलना
बिना बात किसी से भी उलझना
कॉलेज की धौंस दिखारकर डपटना
वो उदयपुर में बीते कॉलेज के दिन बहुत याद आते हैं।

सहेलियोँ की बाड़ी में सहेलियों को तकना
चलते चलते बिना बात अचानक से रूकना
झुक के धीरे से जूतों की डोरी को बाँधना
किसी के भी सामने कभी नहीं हार मानना
वो उदयपुर में बीते कॉलेज के दिन बहुत याद आते हैं।

गुलाब बाग की मस्ती और पिछोला का जोश
विधार्थी जूस वाले के गन्ने का रस उड़ाता था होश
चेतक सिनेमा की फिल्में और स्वप्नलोक का जुनून
कई बार अशोका सिमेना में भी मिलता था सुरूर
वो उदयपुर में बीते कॉलेज के दिन बहुत याद आते हैं।

सूरजपोल की यादें और देहली गेट का नजारा
बहुत वक्त से न देख पाया दुबारा
हिरन मगरी की गपशप और टी एन हॉस्टल के यार
रूट नंबर चार के टेम्पो पर लटकनें का खुमार
वो उदयपुर में बीते कॉलेज के दिन बहुत याद आते हैं।

सिटी पैलेस, पिछोला, सुखाडिया सर्किल, सब वहाँ के वहाँ है
मगर मेरे पुरानें साथी न जाने कहाँ के कहाँ है
बहुत बार करता है कि फिर वही पल जिऊँ
उन सभी दोस्तों के साथ एक-एक कप चाय फिर से पीऊँ
वो उदयपुर में बीते कॉलेज के दिन बहुत याद आते हैं।

जो गुजर गया वो एक सुन्दर सपना था
मेरा कॉलेज और उदयपुर मेरा अपना था
जहाँ मिला इतना प्यार और अपनापन
जिसे पुनः पाने को करता है मेरा मन
वो उदयपुर में बीते कॉलेज के दिन बहुत याद आते हैं।

कई दोस्त अब औहदों में बहुत बड़े हो गए है
पर कसक तो उनके दिलों में भी उठती होगी
वही झगड़ा और मीठी तकरार वापस मिले
यही हसरत उनको भी तो तड़पाती होगी
वो उदयपुर में बीते कॉलेज के दिन बहुत याद आते हैं।

उदयपुर मेरी जन्मस्थली नहीं पर विद्यास्थली रही है
इस जैसा दूसरा शहर पूरी दुनियाँ में कहीं नहीं है
बहुत सीधे, बहुत भोले है लोग यहाँ के
रखते है सभी को अपनी छत्र छायाँ में छुपा के
वो उदयपुर में बीते कॉलेज के दिन बहुत याद आते हैं।

वो उदयपुर में बीते कॉलेज के दिन बहुत याद आते हैं College life in Udaipur is always remembered

Written by:
Ramesh Sharma

ramesh sharma smpr news

Search Anything in Rajasthan
SMPR News Top News Analysis Portal
Subscribe SMPR News Youtube Channel
Connect with SMPR News on Facebook
Connect with SMPR News on Twitter
Connect with SMPR News on Instagram

Post a comment

0 Comments