रजा मुराद ने रेप सीन शूट करने से किया था मना

रजा मुराद ने रेप सीन शूट करने से किया था मना - अस्सी के दशक में बॉलीवुड में नारी शक्ति के प्रदर्शन को लेकर बहुत सी फिल्में बनीं। इन फिल्मों के नयेपन तथा लीक से हटकर अलग कहानी ने दर्शकों के दिलों को छू लिया था। दर्शक इन फिल्मों में इतना खो जाते थे कि वह फिल्म की कहानियों से खुद को जोड़ लेते थे।

इन फिल्मों का दर्शकों पर कितना गहरा प्रभाव पड़ता था इसका अंदाजा इस बात से लगाया जा सकता है कि फिल्म देखते समय दर्शक अपने आप को फिल्म का ही एक पात्र समझने लग जाते थे।

उस दौर में इस प्रकार की बहुत सी फिल्में बनी तथा उनमे अधिकतर काफी सफल भी रही। इन फिल्मों की खास बात यह हुआ करती थी कि इन फिल्मों में हीरो के बजाए हीरोइन की प्रमुख भूमिका होती थी तथा फिल्म को लीड भी वही करती थी।

इन फिल्मों में हीरोइन के साथ-साथ अगर कोई और रोल महत्वपूर्ण था तो वह था विलेन का रोल। हीरोइन तथा विलेन की टक्कर का रोमांच दर्शकों के सर छाड़कर बोलता था जिसके लिए विलेन की भूमिका को बहुत दमदार बनाया जाता था।

अस्सी के दशक में जब शेरनी तथा रामकली जैसी फिल्मों को अभूतपूर्व सफलता मिली तो इंडस्ट्री में इस तरह की फिल्मों की बाढ़ सी आ गई।

इन फिल्मों की दूसरी खास बात यह थी कि इन सभी फिल्मों में बलात्कार के दृश्य अवश्य हुआ करते थे तथा फिल्म की सफलता के लिए इनका होना आवश्यक माना जाता था। फिल्म की कहानी ही कुछ इस तरह की होती थी कि उसमे बलात्कार के दृश्य कहानी की मांग बन जाते थे।

रजा मुराद ने रेप सीन शूट करने से किया था मना

विलेन पहले हीरोइन का बलात्कार करता था तथा बाद में विलेन से बदला लेने के लिए हीरोइन खुद उसकी तरह विलेन बनकर उससे बदला लेती थी।

वर्ष 1987 में डायरेक्टर अशोक देव ने जीनत अमान के साथ कुछ इसी विषय पर आधारित ‘डाकू हसीना’ नामक फिल्म बनाई जिसमे जीनत अमान के अलावा रजा मुराद और रजनीकांत की प्रमुख भूमिका थी।

रजा मुराद इस फिल्म में विलेन बने थे तथा उन्हें इस फिल्म की हेरोइन जीनत अमान के साथ बलात्कार का दृश्य करना था परन्तु राजा मुराद ने यह दृश्य करने से साफ मना कर दिया।

रजा मुराद के इनकार के पीछे असली वजह यह थी कि जीनत अमान रिश्ते में उनकी कजिन लगती थी तथा वे अपनी कजिन के साथ पर्दे पर इस तरह की हरकत नहीं करना चाहते थे

डायरेक्टर तथा फिल्म यूनिट के अन्य सदस्यों के लाख समझाने के बाद भी जब रजा मुराद यह दृश्य शूट करने के लिए तैयार नहीं हुए तो अंततः उन्हें मनाने की जिम्मेदारी स्वयं जीनत अमान को दी गई।

जीनत अमान ने उन्हें बतौर एक्टर काम के बीच अपने रिश्तों को अहमियत ना देने की सलाह दी तथा इस दृश्य को एक प्रोफेशनल की तरह करने के लिए समझाया।

इसके बाद रजा मुराद उस दृश्य को शूट करने के लिए राजी हुए। फिल्म की शूटिंग समाप्त होने के बाद एक बातचीत में इस दृश्य के बारे में बात करते हुए रजा मुराद ने इसे अपने करियर का सबसे कठिन दृश्य बताया था।

रजा मुराद ने रेप सीन शूट करने से किया था मना Raja Murad denied to do rape scene

Written by:
Ramesh Sharma

ramesh sharma smpr news

Search Anything in Rajasthan
SMPR News Top News Analysis Portal
Subscribe SMPR News Youtube Channel
Connect with SMPR News on Facebook
Connect with SMPR News on Twitter
Connect with SMPR News on Instagram

Post a comment

0 Comments