सोशल मीडिया के सिपाही

सोशल मीडिया के सिपाही

जब से सोशल मीडिया आया है,
फेसबुक, व्हाट्स एप और ट्विटर का बुखार,
सभी तरफ छाया है,
नशा इस कदर बढ़ गया है कि,
नफरत का जहर हर तरफ फैल गया है,
जीवन की आपाधापी में,
एक दौड़ सी लगी रहती है,
हर मसला सोशल मुद्दा पर सुलझाने के लिए,
एक हौड सी लगी रहती है।

अगर बात देशभक्ति की हो तो,
हर कोई भगत सिंह बनकर,
शब्दों का असला लेकर,
सोशल मीडिया के परिसर में,
धमाके कर अपनी देशभक्ति साबित करता है,
फर्क इतना है कि,
भगत सिंह आजादी के लिए,
सूली पर चढ़ गए थे,
और ये सोशल मीडिया के क्रांतिकारी,
घर में बैठे-बैठे,
चाय कॉफी की चुस्कियों के साथ,
वक्त की नजाकत को समझते हुए,
क्रान्ति को अंजाम देते हैं।

जब कोई आतंकवादी हमला होता है तो,
आवाम के अघोषित प्रतिनिधि बनकर,
पाकिस्तान को नेस्तनाबूद करने के लिए,
रात-दिन सोशल मीडिया पर,
पोस्ट लिखते हैं,
जो इनके विचारों से सहमत नहीं हो तो,
उसे गद्दार और देशद्रोही बताकर,
तुरंत पाकिस्तान भेजते हैं।

इन्हें गरीबी, शिक्षा, स्वास्थ्य, रोजगार,
महंगाई, बिजली, पानी आदि से,
कोई मतलब नहीं है,
इन्हें शहीदों के परिवार को मिलने वाली,
उस सहायता से भी कोई मतलब नहीं है,
जो किसी सरकार ने शहीद होने पर,
उस परिवार के लिए घोषित की थी,
इन्हें सरकारी सहायता के लिए,
भटकती शहीद की वीरांगना, अबोध बच्चों और माँ की,
उन अश्रुपूरित आँखों से भी कोई मतलब नहीं है,
जो, अपने पति, पिता और पुत्र को खोने के बाद,
सम्मान की उम्मीद को तकती है।

खुफिया विभाग द्वारा,
आतंकवादी हमले के अंदेशे के पश्चात भी,
ये सत्ता को उसके उस नाकारापन के लिए,
कभी नहीं कोसते,
जिसकी वजह से आतंकवादी हमला हो जाता है,
अपने आप को सैनिकों का शुभचिंतक बताकर,
सिर्फ ढिंढोरा पीटते हैं,
और सैनिकों को घटिया खाना मिलने पर भी,
ये सत्ता के खिलाफ नहीं बोलते हैं।

शायद ये, अपनी देशभक्ति को,
अपने फायदे के तराजू में तौलते हैं,
तभी तो ये अधिकतर समय,
सिर्फ अपने फायदे के लिए मुँह खोलते हैं,
सोशल मीडिया के इन तथाकथित सिपाहियों में,
अमूमन वो लोग ज्यादा होते हैं,
जो सक्षम तथा अच्छे ओहदों पर होते हैं,
जिनके घरों से शायद एक भी सैनिक नहीं निकलता है,
ये क्या जाने जब कोई सैनिक मरता है,
तो कई दिनों तक उसके घर में चूल्हा नहीं जलता है।

इनके हिसाब से वास्तविक युद्ध भी,
सोशल मीडिया की पोस्टों की तरह लड़ा जाता है,
परन्तु ये नहीं जानते हैं कि,
बॉर्डर पर जब एक जिंदगी जंग लड़ती है,
तब उसके पीछे कई जिंदगियाँ,
रातों को जाग-जागकर,
भगवान से,
उसकी सलामती की दुआ करती हैं।

सरकारी अवार्ड लौटाने वालों को लताड़कर,
कलाकारों को फिल्मों से निकलवाकर,
कभी मंदिर-मस्जिद,
कभी हिन्दू-मुस्लिम,,
कभी कश्मीर को लेकर,
किसी को भी, कभी भी,
देशद्रोही का तमगा तुरंत देकर,
अपनी चपलता का परिचय देते रहते हैं।

गाली गलौच और अपशब्द हैं इनके प्रमुख हथियार,
जिनसे ये अपने सभी विरोधियों पर करते हैं वार,
राहुल को पप्पू, ममता को गाली,
केजरीवाल को खुजली बताकर बजाते हैं ताली,
हर वो शख्स जो सत्ता के विरोध में बोलता है,
इनके द्वारा देशद्रोही कहलाकर,
इनके कहर को झेलता है,
ऐसा लगता है कि ये,,
विपक्ष विहीन भारत चाहते हैं,
तभी तो, किसी न किसी मुद्दे पर,
स्वघोषित नृप द्वारा आयोजित,
अश्वमेघ यज्ञ के अश्व को घुमाते है।

आधुनिक नृप भी,
सोशल मीडिया की ताकत से वाकिफ है,
तभी तो अश्वमेघ की सफलता के लिए,
सेनानायकों को सौंपी जिम्मेदारी है,
सेनानायक चौबीसों घंटे,
रणनीतिक तैयारियों के तहत,
चाणक्य के उपाय-चतुष्ठय को अपनाकर,
नए-नए मैसेज तथा पोस्ट रचकर,
सोशल मीडिया पर अश्वमेघ की,
सफलता सुनिश्चित करते हैं,
नृप भी काफी चतुर और सजग है,
जो स्वयं सेनानायकों को फॉलो कर,
पल-पल की रणनीति और तैयारियों पर नजर रखता है।

मार्केटिंग की ताकत से,
मिट्टी को सोना बनाकर बेचा जा सकता है,
भारतीय बहुत भावुक होते हैं इसलिए,
भावनाओं से खेलकर सत्ता तक,
फिर से पहुँचा जा सकता है,
मार्केटिंग के सभी हुनर अपनाकर,
अपनी जयकार करवाओ,
हिन्दू शेर की उपाधि के साथ, फिर से सत्ता पाओ।

सोशल मीडिया के सिपाही Soldiers of social media

Post a Comment

0 Comments