अंग्रेजी बोलने वाले देशों के लिए आईईएलटीएस परीक्षा जरूरी

अंग्रेजी बोलने वाले देशों के लिए आईईएलटीएस परीक्षा जरूरी - आईईएलटीएस यानि इंटरनेशनल इंग्लिश लैंग्वेज टेस्टिंग सिस्टम उन लोगों की इंग्लिश में निपुणता को जाँचने का पैमाना है जिनको उन देशों में पढ़ाई या फिर काम करने के लिए जाना है जहाँ इंग्लिश ही बोलचाल का माध्यम है।

यह एक हाई स्टेक इंग्लिश टेस्ट होता है जो स्टडी, वर्क तथा माइग्रेशन के लिए लिया जाता है। उम्मीदवार की इंग्लिश में निपुणता के स्तर को जाँचने के लिए इसमें नाइन बैंड स्केल को एक पैमाने के बतौर काम में लिया जाता है। बैंड वन स्कोर वाला नॉन यूजर तथा बैंड नाइन वाला एक्सपर्ट कहलाता है।

आईईएलटीएस दुनिया का प्रमाणित इंग्लिश लैंग्वेज टेस्ट है। इसका स्वामित्व संयुक्त रूप से ब्रिटिश कौंसिल, आईडीपी : आईईएलटीएस ऑस्ट्रेलिया और कैंब्रिज इंग्लिश लैंग्वेज असेसमेंट के पास है।

पूरी दुनिया में लगभग एक सौ चालीस देशों के एक हजार एक सौ से अधिक जगहों पर यह परीक्षा दी जा सकती है तथा एक साल में परीक्षा की अड़तालीस डेट्स होती है।

यह परीक्षा ऑस्ट्रलिया, कनाडा, न्यूजीलैंड और इंग्लैंड में पढ़ने, कार्य करने तथा माइग्रेट होने वालों के लिए आवश्यक है। तीन हजार से ज्यादा अमेरिकन इंस्टिट्यूटो में इसे स्वीकार किया जाता है तथा अमेरिका में भी पढ़ने, कार्य करने और माइग्रेट होने के लिए इसका वही महत्त्व है जो इन चारों देशों के लिए है।

हर देश अपने हिसाब से इस परीक्षा की रिक्वायरमेंट निर्धारित करता है। पूरी दुनिया में बहुत से एजुकेशन और ट्रेनिंग प्रोवाइडर्स अपने विद्यार्थी चुनते समय आईईएलटीएस के रिजल्ट को अहमियत देते हैं।

बहुत सी प्रोफेशनल रजिस्ट्रेशन बॉडीज और एम्प्लोयेर्स इस परीक्षा को इंग्लिश लैंग्वेज में निपुणता का प्रमाण समझकर इस पर भरोसा करते हैं।

यह परीक्षा पूरी दुनिया में नौ हजार से ज्यादा एजुकेशन और ट्रेनिंग प्रोवाइडर्स द्वारा इंग्लिश लैंग्वेज में निपुणता के प्रमाण के रूप में स्वीकार की जाती है। आईईएलटीएस एक टास्क पर आधारित परीक्षा होती है जिसमे इंग्लिश लैंग्वेज की चारों स्किल्स को शामिल किया जाता है।

ये चार स्किल लिसनिंग, रीडिंग, राइटिंग और स्पीकिंग होती है। परीक्षा दो तरह की होती है एक आईईएलटीएस अकेडमिक और दूसरी आईईएलटीएस जनरल ट्रेनिंग।

आईईएलटीएस अकेडमिक उन लोगों के लिए होती है जो उच्च शिक्षा (अंडरग्रेजुएट और पोस्टग्रेजुएट) तथा प्रोफेशनल रजिस्ट्रेशन के लिए ऐसे देश में जा रहे हैं जहाँ अंग्रेजी भाषा ही संचार का माध्यम होती है।

इस परीक्षा द्वारा मुख्यतया उम्मीदवार की पढ़ाई और ट्रेनिंग से सम्बंधित अंग्रेजी में निपुणता को परखा जाता है।

आईईएलटीएस जनरल ट्रेनिंग उन लोगों के लिए है जो अंग्रेजी बोलने वाले देशों में डिग्री लेवल से कम की स्टडी, ट्रेनिंग तथा साथ ही साथ ऑस्ट्रलिया, कनाडा, न्यूजीलैंड और इंग्लैंड में माइग्रेट होना चाहते हैं। यह परीक्षा मुख्यतया उम्मीदवार की सामाजिक और कार्यस्थल पर सर्वाइवल स्किल्स को परखने के लिए होती है।

दोनों परीक्षाओं (आईईएलटीएस अकेडमिक और आईईएलटीएस जनरल ट्रेनिंग) के लिए लिसनिंग और स्पीकिंग एक ही होती है परन्तु रीडिंग और राइटिंग का सब्जेक्ट अलग-अलग होता है।

परीक्षा का कुल समय दो घंटे पैंतालीस मिनट का होता है जिसमे लिसनिंग के लिए तीस मिनट, रीडिंग के लिए साठ मिनट, राइटिंग के लिए साठ मिनट और स्पीकिंग के लिए अधिकतम पंद्रह मिनट दिए जाते हैं।

इस परीक्षा में रजिस्ट्रेशन के लिए हमें तीन चरण पूर्ण करने होगें। सबसे पहले हमें अपने पास की टेस्ट लोकेशन का पता लगाना होगा। इसके पश्चात टेस्ट के लिए रजिस्टर करना होगा। रजिस्टर करने के लिए हम ऑनलाइन तथा ऑफलाइन दोनों प्रक्रियाओं में से किसी एक को चुन सकते हैं।

एप्लीकेशन प्रोसेस होने के पश्चात हमें टेस्ट सेन्टर की तरफ से टेस्ट की तारीख और समय के बारे में एक लिखा हुआ कन्फर्मेशन लैटर मिलेगा। नियत दिन और समय पर हम यह टेस्ट दे सकते हैं।

अंग्रेजी बोलने वाले देशों के लिए आईईएलटीएस परीक्षा जरूरी IELTS exam is necessary in English speaking countries

Written by:
Ramesh Sharma

ramesh sharma pharmacy tree

Join Online Test Series of Pharmacy, Nursing & Homeopathy
View Useful Health Tips & Issues in Pharmacy

Post a comment

0 Comments