इस शिव मंदिर की जगह पर हुई थी श्रीमाधोपुर की स्थापना

इस शिव मंदिर की जगह पर हुई थी श्रीमाधोपुर की स्थापना - जयपुर के महाराजा सवाई माधोसिंह प्रथम के शासन काल में 1760-61 ईसवी के लगभग वर्तमान श्रीमाधोपुर के निकट हाँसापुर (वर्तमान में हाँसपुर) तथा फुसापुर (वर्तमान में पुष्पनगर) के सामंतो ने विद्रोह करके कर देना बंद कर दिया था।


इन विद्रोही सामंतो का दमन करने के लिए महाराजा सवाई माधोसिंह ने अपने प्रधान दीवान नोपपुरा निवासी बोहरा राजा श्री खुशाली राम जी को सैन्य टुकड़ी के साथ भेजा। इस अभियान के लिए बोहरा जी ने चौपड़ बाजार में स्थित वर्तमान शिवमंदिर के निकट अपना डेरा लगाया था। उस समय इस जगह पर एक तालाब हुआ करता था।

Promote Your Business on Shrimadhopur App @1199 Rs

एक दिन बोहरा जी ने इस तालाब की पाल पर एक खेजड़ी की डाली आरोपित की जो कि धीरे-धीरे हरी भरी होकर वृक्ष का रूप लेने लग गई। तालाब किनारे इस प्रकार की ऊर्वरा भूमि को देखकर बोहरा जी के मन में इस स्थान पर नगर बसाने की अभिलाषा जागृत हुई। तत्पश्चात 1761 में वैशाख शुक्ल तृतीय (अक्षय तृतीया) को बोहरा राजा श्री खुशाली राम जी ने श्रीमाधोपुर नगर की स्थापना उसी खेजड़ी के वृक्ष की जगह पर की।

इस शिव मंदिर की जगह पर हुई थी श्रीमाधोपुर की स्थापना

यह खेजड़ी का पेड़ आज भी नगर के बीचो बीच चौपड़ बाजार में वर्तमान शिवालय परिसर के अन्दर हनुमान मंदिर में स्थित है। इस पेड़ के निकट ही हनुमान जी की उत्तरमुखी मूर्ति तथा चर्तुमुखी शिवलिंग भी स्थित है।

क्या श्रीमाधोपुर के कांग्रेसी कार्यकर्ताओं ने पटेल को बीजेपी का मान लिया है?

मंदिर के पुजारी ओमप्रकाश शर्मा के अनुसार श्रीमाधोपुर की स्थापना के समय इस शिवमंदिर में चतुर्मुखी शिवलिंग की स्थापना हुई थी तथा इसके कुछ वर्षों पश्चात इस परिसर के ऊपर दूसरा शिवमंदिर निर्मित हुआ जिसमे चर्तुमुखी शिवलिंग के साथ-साथ माता गोरी, अष्टधातु की माता पार्वती, गणेश जी तथा नंदी की मूर्तियाँ भी स्थापित की गई।

अनादिकाल से मौजूद है टपकेश्वर का स्वयंभू शिवलिंग

इस मंदिर की शिव पंचायत की सबसे खास बात यह है कि यहाँ माता पार्वती तथा माता गोरी की मूर्ति एक साथ है तथा कार्तिकेय की मूर्ति नहीं है जबकि सभी जगह शिव पंचायत में माता गोरी की जगह कार्तिकेय की मूर्ति होती है। मंदिर में प्रवेश द्वार पर सीढियों के निकट द्वारपाल के रूप में कीर्तिक स्वामी की मूर्ति मौजूद है।

इस शिव मंदिर की जगह पर हुई थी श्रीमाधोपुर की स्थापना

माता पार्वती की अष्टधातु की मूर्ति बेशकीमती है जिसका खुलासा कुछ समय पूर्व इस मूर्ति के चोरी हो जाने पर हुआ। मूर्ति के बरामद हो जाने पर यह पता चला कि अन्तराष्ट्रीय बाजार में इस चमत्कारी मूर्ति की कीमत करोड़ों रुपये में आँकी गई है। इ घटना के पश्चात अब मंदिर की सुरक्षा भी काफी बढ़ा दी गई है जिनमे सीसीटीवी कैमरों के साथ-साथ चैनल गेट भी लगाए गए हैं।

Book Domain and hosting on Domain in India

यह मंदिर एक मंदिर ना होकर वह पावन भूमि है जहाँ से श्रीमाधोपुर कस्बे की नींव रखी गई। हम सभी श्रीमाधोपुर वासियों को प्रत्येक अक्षय तृतीया के दिन इस स्थान पर इकठ्ठा होकर इस दिन को धूमधाम से श्रीमाधोपुर की स्थापना दिवस के रूप में मनाना चाहिए।

इस शिव मंदिर की जगह पर हुई थी श्रीमाधोपुर की स्थापना

इस शिव मंदिर की जगह पर हुई थी श्रीमाधोपुर की स्थापना Shrimadhopur was established on the site of Shiv temple

अपनी खबर को SMPR News पर पब्लिश करवाने के लिए 9529433460 पर संपर्क करें

Written by:
Ramesh Sharma

ramesh sharma writer

keywords - shiv temple shrimadhopur, shiv mandir shrimadhopur, shivling shrimadhopur, asht dhatu parvati mata idol shrimadhopur, ancient shiv temple shrimadhopur, shiv temple chopar bazar shrimadhopur, shrimadhopur foundation place, shrimadhopur foundation khejdi tree

Subscribe SMPR News Youtube Channel
Download Shrimadhopur Android App
Connect with SMPR News on Facebook

Post a Comment

0 Comments