330 वर्षों में पहली बार नहीं निकलेगी गणगौर की सवारी

330 वर्षों में पहली बार नहीं निकलेगी गणगौर की सवारी – आज गणगौर का पर्व मनाया जाएगा लेकिन कोरोना वायरस के संक्रमण के डर की वजह से सीकर शहर के इतिहास में पहली बार गणगौर की सवारी नहीं निकलेगी. ईसर एवं गणगौर की प्रतिमा भी दर्शनों के लिए नहीं रखी जाएगी.

330 वर्षों में पहली बार नहीं निकलेगी गणगौर की सवारी

सांस्कृतिक मंडल के मंत्री जगदीश प्रसाद चौकड़िका के अनुसार 330 वर्षों में ऐसा पहली बार होगा. गणगौर की सवारी की इस परंपरा की शुरुआत सीकर राजपरिवार ने की थी. गौरतलब है कि वर्ष 1967 में राव राजा कल्याण सिंह ने गणगौर की सवारी की जिम्मेदारी सांस्कृतिक मंडल को दी थी.

Promote Your Business on Rajasthan Business Directory

सांस्कृतिक मंडल ने महिलाओं को सलाह दी है कि वे घर में ही मिट्टी की प्रतीकात्मक प्रतिमाएँ बनाकर पूजा करें एवं घर में ही गमले में या पीपल के पेड़ के नीचे रखकर उन्हें जल अर्पित करें.

श्रीमाधोपुर में नहीं भरेगा गणगौर का मेला

कोरोना के प्रकोप के चलते इस बार श्रीमाधोपुर में गणगौर की सवारी नहीं निकलेगी एवं मेला भी नहीं भरेगा. नायनकाजोशी हवेली स्थित मंदिर में ईसर व गणगौर की प्रतिमा श्रद्धालुओं के दर्शनार्थ रखी जाएगी.

330 वर्षों में पहली बार नहीं निकलेगी गणगौर की सवारी Gangaur ride will not be take place first time in 330 years

दस से पाँच बजे तक खुलेगी राशन एवं किराना की दुकानें

Keywords - gangaur ride sikar, gangaur ride shrimadhopur, gangaur ki sawari, gangaur fair sikar, gangaur fair shrimadhopur, gangaur festival shrimadhopur, gangaur festival sikar, corona effect on gangaur festival

Subscribe SMPR News Headlines Youtube Channel
Connect with SMPR News on Facebook
Buy Domain and Hosting at Reasonable Price

Post a Comment

0 Comments