साक्षात जगन्नाथ के रूप हैं जगदीशपुरी के जगदीशजी

साक्षात जगन्नाथ के रूप हैं जगदीशपुरी के जगदीशजी - सीकर जिले में अजीतगढ़ कस्बे के पास में स्थित अरावली की पहाड़ियों में कई दर्शनीय स्थल हैं. आज हम आपको कस्बे के निकटवर्ती जगदीशपुरी गाँव की पहाड़ी पर स्थित जगदीश मंदिर की जानकारी देने के साथ-साथ इसकी यात्रा भी करवाते हैं.


कहते हैं कि जगदीशजी के दर्शन करने के पश्चात जगन्नाथपुरी जाने की जरूरत नहीं है. भगवान जगन्नाथ स्वयं जगदीशजी के रूप यहाँ विराजमान है. इस स्थान को जगदीश धाम के नाम से जाना जाता है.

इस मंदिर तक कार या बाइक द्वारा अजीतगढ़ या अमरसर कस्बे से होकर पहुँचा जा सकता है. दोनों ही कस्बों से इस स्थान की दूरी लगभग 7-8 किलोमीटर होगी.

अजीतगढ़ कस्बे से जाने के लिए हमें अजीतगढ़-शाहपुरा मार्ग पर स्थित रीको इंडस्ट्रियल एरिया में स्थित उप तहसील भवन के सामने से गुजरना होता है.

जगदीशपुरी से मंदिर तक का रास्ता पहाड़ों के बीच से होकर गुजरता है एवं काफी वीरान प्रतीत होता है. सड़क के एक तरफ बरसाती नदी के लिए खाई बनी हुई है. बारिश के दिनों में यह रास्ता काफी मनोरम हो जाता है.



मंदिर से पहले एक प्रवेश द्वार बना हुआ है जिस पर मंदिर से सम्बंधित चित्रकारी की हुई है. इस रास्ते को पार करने के बाद मंदिर वाले पहाड़ की तलहटी आती है.

पहाड़ी पर स्थित मंदिर तक जाने के लिए सीढ़ियाँ बनी हुई है. वाहनों के लिए बगल से एक पथरीली कच्ची सड़क बनी हुई है. इस सड़क पर वाहनों का अधिक आवागमन नहीं है.
सीढ़ियाँ चढ़ने के बाद भगवान जगदीश का मंदिर आता है. मंदिर में भगवान जगदीश साक्षात विराजित होते प्रतीत होते हैं. पहाड़ी के एक अंश को जगदीशजी के रूप में पूजा जाता है. यह भगवान जगदीश का स्वयंभू रूप है.

एक दन्त कथा के अनुसार शाहपुरा के निकट खोरी गाँव के केशव दास जी महाराज टीलावत वंश के काफी बड़े सिद्ध संत थे. ये अपनी चमत्कारिक योग शक्ति से रोजाना जगन्नाथ पुरी जाकर भगवान जगन्नाथ के दर्शन किया करते थे.
वृद्धावस्था में इन्होंने भगवान जगन्नाथ को जगन्नाथपुरी आने में अपनी असमर्थता जताई. तब भगवान जगन्नाथ ने इन्हें इनके पास सीपुर के पर्वत पर प्रकट होने का आश्वासन दिया.

बाद में जगदीशजी के रूप में भगवान जगन्नाथ जगदीशपुरी में इस पहाड़ी पर प्रकट हुए. जिस जगह ये प्रकट हुए थे उसके पास के स्थान को इन्होंने हाथ से दबा दिया था ताकि भक्तजन यहाँ से बहने वाले पानी को चरणामृत के रूप ग्रहण कर सकें.

आज भी उस जगह पर प्रभु जगन्नाथ के हाथ की आकृति बनी हुई है जिसमे से हमेशा पानी बहता रहता है. यह पानी भगवान के चरणामृत स्वरुप काम आता है. 

भगवान के आदेशनुसार सीपुर गाँव के गुर्जर परिवार से जो सबसे पहले पूजा के लिए अग्नि लेकर आया, वही मंदिर में सेवा पूजा का अधिकारी बना. आज भी उसी परिवार के लोग मंदिर में सेवा पूजा का कार्य करते हैं.

टीलाजी महाराज के पुत्र एवं शिष्य श्री परमानंद जी महाराज थे. इनके पुत्र एवं शिष्य का नाम श्री केशव दास जी महाराज था. श्री टीलाजी महाराज तो 52 द्वारों में एक द्वाराचार्य हैं. इनके पूर्वाचार्य भी सिद्ध महापुरुष थे.

श्री जगदीश धाम विकास सेवा संस्थान की अगुवाई में यहाँ पर भाद्रपद शुक्ल पक्ष की पंचमी व द्वादशी को विशाल मेला भरता है. प्रत्येक शुक्ल पक्ष की ग्यारस को रात्रि जागरण के साथ भंडारे का आयोजन होता है. साथ ही पीपल पूर्णिमा को पाटोत्सव, गुरुपूर्णिमा एवं शरद पूर्णिमा को भी कार्यक्रम आयोजित होते हैं.

यह स्थान आसपास के क्षेत्र के कई संतों की तपोस्थली भी रहा है. इन संतों में गंगादास जी, नारायण दास जी, भगवान दास जी, रिछपाल दास जी आदि का नाम प्रमुखता से लिया जाता है.

पहाड़ी की तलहटी में बालाजी का प्राचीन मंदिर बना हुआ है. मंदिर में बालाजी की प्रतिमा के अलावा संतों की तपस्या के लिए धूणा भी बना हुआ है.
मंदिर के पास एक कुआँ है जिसमे दस बारह फीट की गहराई पर ही काफी पानी है. कहते हैं कि इस कुएँ में पानी का स्तर कभी भी कम नहीं होता है.

अगर आप धार्मिक कार्यों के अतिरिक्त पर्यटन में भी रुचि रखते हैं तो आपको इस स्थान की यात्रा अवश्य करनी चाहिए.

साक्षात जगन्नाथ के रूप हैं जगदीशपुरी के जगदीशजी

साक्षात जगन्नाथ के रूप हैं जगदीशपुरी के जगदीशजी

साक्षात जगन्नाथ के रूप हैं जगदीशपुरी के जगदीशजी Jagdish Ji of Jagdish Puri is form of Lord Jagannath

Written by:
Ramesh Sharma

ramesh sharma smpr news

Keywords - jagadishji ajeetgarh, jagadishji amarsar, jagdish mandir ajeetgarh, jagdish temple ajeetgarh, jagdish mandir amarsar, jagdish temple amarsar, jagdish mandir ajeetgarh darshan timings, jagdish mandir ajeetgarh location, jagdish mandir ajeetgarh contact number, tourist places in sikar

Read News Analysis http://smprnews.com
Search in Rajasthan http://shrimadhopur.com
Join Online Test Series http://examstrial.com
Read Informative Articles http://jwarbhata.com
Khatu Shyamji Daily Darshan http://khatushyamji.org
Search in Khatushyamji http://khatushyamtemple.com
Buy Domain and Hosting http://www.domaininindia.com
Read Healthcare and Pharma Articles http://pharmacytree.com
Buy KhatuShyamji Temple Prasad http://khatushyamjitemple.com

Our Social Media Presence :

Follow Us on Twitter https://twitter.com/shrimadhopurapp
Follow Us on Facebook https://facebook.com/shrimadhopurapp
Follow Us on Instagram https://instagram.com/shrimadhopurapp
Subscribe Our Youtube Channel https://youtube.com/ShrimadhopurApp

Disclaimer (अस्वीकरण) : इस आलेख में व्यक्त किए गए विचार लेखक के निजी विचार हैं तथा कोई भी सूचना, तथ्य अथवा व्यक्त किए गए विचार SMPR News के नहीं हैं,  इस आलेख में दी गई किसी भी सूचना की सटीकता, संपूर्णता, व्यावहारिकता अथवा सच्चाई के प्रति SMPR News उत्तरदायी नहीं है.

Post a comment

0 Comments