महाभारत कालीन है अमरसर की कालका माता

महाभारत कालीन है अमरसर की कालका माता – अमरसर कस्बा शेखावाटी के संस्थापक राव शेखाजी की जन्मस्थली होने के अतिरिक्त कालका माता की भूमि होने की वजह से सम्पूर्ण भारतवर्ष में जाना जाता है. यह मंदिर काफी प्राचीन है और इसे महाभारत कालीन बताया जाता है.


यह कस्बा जयपुर जिले की शाहपुरा तहसील में चौमूँ-नीमकाथाना रोड पर सामोद और अजीतगढ़ के लगभग मध्य में स्थित है.

कस्बे से लगभग पाँच किलोमीटर की दूरी पर अरावली की पहाड़ियों के बीच एक पहाड़ी पर कालका माता का मंदिर स्थित है. बारिश के दिनों में यहाँ की प्राकृतिक सुन्दरता मन को मोह लेती है.

महाभारत कालीन है अमरसर की कालका माता

जयपुर रेलवे स्टेशन से मंदिर की दूरी लगभग 75 किलोमीटर है. यहाँ पर अमरसर से एवं शाहपुरा से अजीतगढ़ मार्ग पर स्थित त्रिवेणी मोड़ से देवीपुरा होकर पहुँचा जा सकता है. अमरसर और त्रिवेणी मोड़ दोनों से कालका माता मंदिर की दूरी लगभग पाँच किलोमीटर है.

मंदिर जिस पहाड़ी पर स्थित है उसकी समुद्रतल से ऊँचाई लगभग 500 फीट बताई जाती है. इस पहाड़ी की तलहटी में काफी जगह है जहाँ पर नवरात्रि के समय मेला भरता है जिसमे हजारों की संख्या में श्रद्धालु इकट्ठे होते हैं. मेले के समय इस मेला ग्राउंड में भंडारों का भी आयोजन किया जाता है.

महाभारत कालीन है अमरसर की कालका माता

मंदिर तक पहुँचने के लिए पदयात्रियों के लिए सीढ़ियाँ बनी हुई हैं एवं वाहनों के लिए पक्की सीसी सड़क बनी हुई है. यह सड़क सर्पिलाकार रूप में है.

मंदिर के मुख्य द्वार से सीढ़ियाँ शुरू होती हैं. मंदिर तक जाने के लिए कुल 451 सीढ़ियाँ चढ़नी पड़ती हैं. सीढ़ियों को टीनशेड से कवर किया हुआ है जिससे गर्मी में धूप और बारिश में बरसात की वजह से यात्रा में कोई व्यवधान नहीं पहुँचे.

साक्षात जगन्नाथ के रूप हैं जगदीशपुरी के जगदीशजी
धनुष धारण करने की वजह से कहलाए धनुषधारी हनुमान

मंदिर के प्रवेश द्वार को पार करते ही हनुमानजी की मूर्ति है. मंदिर प्रांगण में योगिनी माता एवं काल भैरव की मूर्ति स्थापित है. पास ही भंडारे के सामान के लिए कक्ष बना हुआ है.

यहाँ से कुछ सीढ़ियाँ चढ़ने के पश्चात मुख्य मंदिर प्रांगण शुरू होता है. यहाँ कई स्तंभों पर टिका हुआ भव्य गुम्बद बना हुआ है. इस गुम्बद की छत पर कई देवी देवताओं की सुन्दर छवि उकेरी हुई है.

यहाँ से सामने कालका माता के दर्शन होते हैं. माता की मूर्ति से कुछ दूरी पर अखंड ज्योति जलती रहती है. बगल में पहाड़ के अंश दिखाई पड़ते हैं. पिंड रूप में स्थित माता की यह मूर्ति स्वयंभू बताई जाती है.

Buy Domain and Hosting at Reasonable Price
Promote Your Business on Rajasthan Business Directory

कहते हैं कि राजा महाराजाओं के जमाने में काली माता की मूर्ति बोला करती थी. अमरसर और आस पास के इलाकों में इसे कुल देवी के रूप में पूजा जाता है. श्रद्धालु बड़ी संख्या में जात एवं  जडूलों (मुंडन संस्कार) के लिए यहाँ आते हैं.

एक दंतकथा के अनुसार बहुत समय पहले यहाँ एक लकडहारा रहता था. वह माता का भक्त था एवं चूहों को माता का रूप मानकर उनकी पूजा करता था. एक बार उसकी विनती पर माता ने उसे साक्षात दर्शन दिए.

महाभारत कालीन है अमरसर की कालका माता

लकडहारे के निवेदन पर माता पिंडी रूप धारण करके यहीं रूक गई. बाद में लकडहारे ने इस स्थान पर एक मंदिर का निर्माण करवाया.

मन्दिर में केवल सात्विक सामग्री को ही प्रसाद के रूप में चढ़ाया जाता है. मंदिर में मांस, मदिरा एवं पशु-पक्षी बलि की सख्त मनाही है.

Shri Mahakali Mandir Kalka Dham Amarsar Jaipur

श्रद्धालुओं के ठहरने के लिए मुख्य दरवाजे के आगे एक धर्मशाला बनी हुई है. मंदिर की सेवा पूजा एवं अन्य व्यवस्थाओं को महाकाली शक्तिपीठाधीश्वर महंत प्रेम गिरी महाराज देखते हैं.


अगर आप धार्मिक स्थल के साथ-साथ पर्यटन का मजा भी लेना चाहते हैं तो आपको एक बार इस धार्मिक एवं ऐतिहासिक जगह पर जरूर जाना चाहिए.

महाभारत कालीन है अमरसर की कालका माता

महाभारत कालीन है अमरसर की कालका माता Kalka mata Amarsar blongs to mahabharat era

Written by:
Ramesh Sharma

ramesh sharma smpr news

Keywords - shri mahakali mandir amarsar, kalka dham amarsar, shri mahakali temple amarsar, goddess kali temple amarsar, kali mata mandir amarsar, kalka mata mandir amarsar, kalka mata mandir amarsar location, kalka mata mandir amarsar darshan timings, kalka mata mandir amarsar contact number, kalka mata mandir amarsar how to reach

Read News Analysis http://smprnews.com
Search in Rajasthan http://shrimadhopur.com
Join Online Test Series http://examstrial.com
Read Informative Articles http://jwarbhata.com
Khatu Shyamji Daily Darshan http://khatushyamji.org
Search in Khatushyamji http://khatushyamtemple.com
Buy Domain and Hosting http://www.domaininindia.com
Read Healthcare and Pharma Articles http://pharmacytree.com
Buy KhatuShyamji Temple Prasad http://khatushyamjitemple.com

Our Social Media Presence :

Follow Us on Twitter https://twitter.com/shrimadhopurapp
Follow Us on Facebook https://facebook.com/shrimadhopurapp
Follow Us on Instagram https://instagram.com/shrimadhopurapp
Subscribe Our Youtube Channel https://youtube.com/ShrimadhopurApp

Disclaimer (अस्वीकरण) : इस आलेख में व्यक्त किए गए विचार लेखक के निजी विचार हैं तथा कोई भी सूचना, तथ्य अथवा व्यक्त किए गए विचार SMPR News के नहीं हैं,  इस आलेख में दी गई किसी भी सूचना की सटीकता, संपूर्णता, व्यावहारिकता अथवा सच्चाई के प्रति SMPR News उत्तरदायी नहीं है.

Post a comment

0 Comments